05/01/2018   ट्रंप नहीं बनना चाहते थे राष्ट्रपति
वाशिंगटन डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति नहीं बनना चाहते थे। माइकल वॉल्फ द्वारा लिखी गई ‘फायर एंड फरी’ इनसाइड द ट्रंप व्हाइट हाउस किताब में खुलासा हुआ है कि प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप को जब अचंभित करने वाली चुनावी जीत का पता चला तो वह यह खबर सुन कर वह खुश नहीं हुईं, बल्कि रोने लगी थीं।

माइकल वॉल्फ द्वारा लिखी गई फायर एंड फरी:इनसाइड द ट्रंप व्हाइट हाउस’ किताब में दावा किया गया है कि, ट्रंप का अंतिम लक्ष्य कभी भी जीतना नहीं था। ट्रंप ने अपने सहायक सैम नुनबर्ग को चुनावी दौड़ की शुरआत में कहा था कि, उनका अंतिम लक्ष्य कभी भी जीतना नहीं था।

मैं दुनिया में सबसे मशहूर व्यक्ति हो सकता हूं। किताब के अंशों के अनुसार, उनके लंबे समय से दोस्त रहे फॉक्स न्यूज के पूर्व प्रमुख रोजर एलिस कहना चाहते थे कि अगर तुम टेलीविजन में करियर बनाना चाहते हो तो सबसे पहले राष्ट्रपति पद के लिए खड़े हो। न्यूयॉर्क पत्रिका में इस किताब के अंश ‘डोनाल्ड ट्रंप राष्ट्रपति नहीं बनना चाहते थेग शीर्षक से प्रकाशित हुए हैं, जिसके बाद व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने इन्हें खारिज किया है। सारा ने कहा असल में एक छोटी सी बातचीत हुई थी, जिसका किताब से कोई लेना देना नहीं है। मुझे लगता है कि राष्ट्रपति के कार्यभार संभालने के बाद से करीब पांच से सात मिनट यह बातचीत हुई थी और उनके साथ केवल इतनी ही बातचीत हुई थी। वॉल्फ के मुताबिक, व्हाइट हाउस में प्रवेश करने के बाद ट्रंप को कामकाज के बारे में बहुत कम पता था। लेखक ने दावा किया कि ट्रंप को सुझाव देना सबसे ज्यादा जटिल था। ट्रंप के राष्ट्रपति के कामकाज का मुख्य मुद्दा यह था कि वे अपनी विशेषज्ञता पर विश्वास करते थे
चाहे वह विचार कितना ही अप्रासंगिक या तुच्छ ही क्यों न हो।

किताब में कहा गया है कि, जूनियर ट्रंप ने अपने एक दोस्त को बताया था कि चुनावी रात को आठ बजे के बाद जब अप्रत्याशित रुझानों ने ट्रंप की जीत की पुष्टि कर दी थी, तो उसके पिता ऐसे लग रहे थे जैसे उन्होंने भूत देख लिया है। मेलानिया खुश होने की बजाय रो रही थीं। चुनाव के दिन से गत अक्तूबर तक वॉल्फ ने 18
महीने तक राष्ट्रपति और उनके वरिष्ठ कर्मचारियों से बातचीत की और उनका साक्षात्कार लिया। वॉल्फ ने कहा कि, व्हाइट हाउस में ट्रंप के खुद के व्यवहार ने इतनी अराजकता और अव्यवस्था फैलाई जितनी किसी और चीज ने नहीं। व्हाइट हाउस ने इस किताब की सामग्री को खारिज किया है। यह किताब अगले सप्ताह से दुकानों पर उपलब्ध होगी। सैंडर्स ने कहा कि, यह किताब झूठ से भरी है और इसमें उन लोगों के हवाले से भ्रामक तथ्य रखे गए हैं, जिनकी व्हाइट हाउस तक कोई पहुंच नहीं है।


Back

गांव नाथूपुर में अवैध कब्जे हटाकर जमीन खाली कराया
अनाधिकृत निर्माणों पर निगम सख्त
नीलांचल सोसायटी ने केरल त्रासदी के लिए गुरुग्राम में चलाया सहयोग संग्रह अभियान
तीन विकास कार्यों के टेंडर को दी गई मंजूरी
बादशाहपुर के हर गांव में कराए गए काम
बार एसो. ने केरल बाढ़ पीडि़तों के लिए दिए एक लाख 51 हजार
कैरियर गाइडेंस कार्यक्रम : छात्रों को दिए गए सफलता टिह्रश्वस
नशा रोकने के लिए कदम उठा रही है सरकार
स्वच्छता पखवाड़े के तहत इंडियन ऑयल ने बांटे डस्टबीन
एसएमडी स्कूल में रक्षाबंधन मनाया गया
आदर्श पब्लिक स्कूल (एपीएस 20) में मनाया गया ईद उत्सव
पंजाब को आगे बढ़ाएगा स्टार्टअप शिखर सम्मेलन
क्या हाल मिस्टर पांचाल में कन्हैया की भूमिका निभा रहे मनिंदर सिंह इस साल रक्षा बंधन का जश्न कैसे मना रहे हैं?
मुस्कान में आरती की भूमिका निभा रहीं अरीना डे इस साल रक्षा बंधन कैसे मना रही हैं?
लूट के प्रयास का एक आरोपी काबू
सोमवार से विधानसभा में हंगामे के आसार खैहरा गुट ने विधानसभा के बाहर लगाए सरकार के खिलाफ नारे
15 साल के शार्दुल को डबल ट्रैप में रजत
रमणीक स्थल बनाए जाने के बदले में लोगों को दिया डंपिग सेंटर
अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखे जाएंगे बड़े प्रोजेक्टों के नाम
बच्चें समाज का अभिन्न अंग : रामबिलास
Copyright @ 2017.