08/08/2015   रूढि़वादी परम्पराओ पर कड़ा प्रहार करता पारिवारिक धारावाहिक हमनवाज़
भारत में आज टेलीविजन का दौर अपने सफलता के चरम पर है। टेलीविजन की सफलता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है की आज बड़ी से बड़ी फिल्मो के प्रमोशन एवम विज्ञापन के लिए टीवी की जरुरत पड़ती है। कारण है टेलीविजन का बड़ा कैनवास, उसकी पहुँच।

टेलीविजन आज अपने आप में पूरी दुनिया समेटे हुए है, इसमें जीवन के हर रंग, हर रस के दर्शन होते है, फिर चाहे वो कॉमेडी हो, त्रास्दी हो, सस्पेंस हो, ड्रामा हो या मैलो ड्रामा हो, यू तो आज प्राइवेट चैनल्स की बाढ़ सी गई है पर आज भी जो पहुँच दूरदर्शन की है वो शायद ही किसी और चैनल की हो, दूरदर्शन आज भी देश की सभ्यता एवम संस्कृति से जुड़े धारावाहिक एव कार्यक्रम दिखा रहा है। इसके धारावाहिक दर्शको का केवल मनोरंजन करते है बल्कि इनके अंदर समाज के उत्थान के लिए कोई कोई सीख भी अवश्य ही छिपी होती है।
आज भले ही प्राइवेट चैनल्स का दौर चल रहा हो लेकिन हिंदुस्तान के घर-घर में टीवी को लोकप्रिय बनाने का श्&#


Back

गांव नाथूपुर में अवैध कब्जे हटाकर जमीन खाली कराया
अनाधिकृत निर्माणों पर निगम सख्त
नीलांचल सोसायटी ने केरल त्रासदी के लिए गुरुग्राम में चलाया सहयोग संग्रह अभियान
तीन विकास कार्यों के टेंडर को दी गई मंजूरी
बादशाहपुर के हर गांव में कराए गए काम
बार एसो. ने केरल बाढ़ पीडि़तों के लिए दिए एक लाख 51 हजार
कैरियर गाइडेंस कार्यक्रम : छात्रों को दिए गए सफलता टिह्रश्वस
नशा रोकने के लिए कदम उठा रही है सरकार
स्वच्छता पखवाड़े के तहत इंडियन ऑयल ने बांटे डस्टबीन
एसएमडी स्कूल में रक्षाबंधन मनाया गया
आदर्श पब्लिक स्कूल (एपीएस 20) में मनाया गया ईद उत्सव
पंजाब को आगे बढ़ाएगा स्टार्टअप शिखर सम्मेलन
क्या हाल मिस्टर पांचाल में कन्हैया की भूमिका निभा रहे मनिंदर सिंह इस साल रक्षा बंधन का जश्न कैसे मना रहे हैं?
मुस्कान में आरती की भूमिका निभा रहीं अरीना डे इस साल रक्षा बंधन कैसे मना रही हैं?
लूट के प्रयास का एक आरोपी काबू
सोमवार से विधानसभा में हंगामे के आसार खैहरा गुट ने विधानसभा के बाहर लगाए सरकार के खिलाफ नारे
15 साल के शार्दुल को डबल ट्रैप में रजत
रमणीक स्थल बनाए जाने के बदले में लोगों को दिया डंपिग सेंटर
अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखे जाएंगे बड़े प्रोजेक्टों के नाम
बच्चें समाज का अभिन्न अंग : रामबिलास
Copyright @ 2017.